सऊदी अरब की महिलाओं को मिला ड्राइविंग का हक- कार चलाने वाली पहली महिला बनीं असील हमद

0
166
सऊदी अरब की महिलाओं को मिला ड्राइविंग का हक- कार चलाने वाली पहली महिला

सऊदी अरब में महिलाओं के ड्राइविंग करने पर लगा प्रतिबंध हटने के बाद यहां की असील अल हमद फॉर्मूला वन कार चलाने वाली पहली महिला बन गईं। उन्होंने यह उपलब्धि फ्रांस में हासिल की। असील ने फ्रेंच ग्रां प्री से पहले ‘ले कास्टेलेट सर्किट’ पर यह कार चलाई। एफ वन टीम रैनो ने उन्हें यह मौका दिया। असील रैनो टीम की ‘पैशन परेड’ का हिस्सा हैं। सऊदी अरब की मोटर स्पोर्ट्स की पहली महिला सदस्य असील वही कार चलाती दिखीं जिससे 2012 में अबू धाबी में किमी राइकोनेन ने जीत दर्ज की थी।

सऊदी अरब में अब ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अर्जी दे रही महिलाओं की तादाद तेजी से बढ़ रही है। फिलहाल 1 लाख 20 हजार आवेदन आ चुके हैं। सऊदी अरब गृह मंत्रालय और ट्रैफिक डिपार्टमेंट की ओर से रविवार को यह जानकारी दी गई। लंबे समय बाद रविवार को यहां महिलाओं को ड्राइविंग का हक मिला।

आधी रात कार लेकर निकलीं महिलाएं: 28 साल के संघर्ष के बाद सऊदी अरब की महिलाओं को रविवार से ड्राइविंग का हक मिला। महिलाएं शनिवार रात 12 बजे ही कार लेकर सड़क पर निकल पड़ीं और जश्न मनाया। सऊदी अरब में 2020 तक 30 लाख महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस दिए जाने का लक्ष्य है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक पाबंदी हटने से 2030 तक सऊदी इकोनॉमी को 6 लाख करोड़ रुपए का फायदा होगा। सालाना 70 हजार महिलाएं वर्कफोर्स में शामिल होंगी। करीब दो लाख विदेशी ड्राइवरों की छुट्‌टी होगी।

सऊदी अरब में 1990 के दशक में कार चलाने पर महिलाओं की गिरफ्तारियां हुई थीं।

सऊदी अरब में ड्राइविंग से बैन हटते ही 1.20 लाख महिलाओं ने लाइसेंस के लिए अप्लाई किया।

source-zeenews

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here