21 जुलाई को GST काउंसिल मीटिंग के बाद प्रोडक्ट्स सस्ते हो सकते हैं.

0
85

बिजनेस- जीएसटी परिषद की 21 जुलाई को होने वाली आगामी बैठक के दौरान बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की अध्यक्षता वाली समिति की सिफारिश के आधार पर जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरलीकृत करने पर अंतिम फैसला ले सकती है। इसके साथ ही राजस्व संग्रहण के साथ उचित संतुलन साधते हुए कुछ उत्पादों की दरों को वरीयता के आधार पर युक्तिसंगत बनाने पर विचार किया जा सकता है। एक अधिकारी ने कहा कि बैठक में कम राजस्व वाले उत्पादों के दरों में कटौती पर विचार हो सकता है।21 जुलाई को GST काउंसिल मीटिंग के बाद प्रोडक्ट्स सस्ते हो सकते हैं.

वित्त मंत्री भी देंगे संकेत- वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने भी 12 जुलाई को इस बात के संकेत दिए कि कम राजस्व वाले उत्पादों पर दरें कम की जा सकती है। गोयल ने कहा, ‘जीएसटी परिषद ने 328 उत्पादों पर दरों को पहले ही कम किया है, इसलिए वरीयता के आधार पर (दर में कुछ कमी) की कुछ गुंजाइश हो सकती है।

प्रोडक्ट्स के दामों में कटौती- एक जानकारी के मुताबिक सैनेटरी नैपकिन, हैंडीक्राफ्ट और हैंडलूम गुड्स जैसे उत्पादों की दरों में कमी की जा सकती है। दरअसल तमाम इंडस्ट्रियल बॉडी और हितधारकों ने मांग की थी कि कुछ ऐसे उत्पादों पर कर की दरें कम की जाएं जो कि असंगठित क्षेत्र में सामान्य स्वास्थ्य और रोजगार उत्पादन से जुड़े हुए हैं।

पिछले साल 178 वस्तुओं पर जीएसटी की दरों में कटौतीइससे पहले, पिछले साल 15 नवंबर को जीएसटी परिषद ने 178 वस्तुओं पर जीएसटी की दरें घटाई थीं। इस बदलाव के बाद रेस्तरां में खाना सस्ता हो गया था। 7,500 रुपये प्रति कमरा रोजाना तक शुल्क लेने वाले अच्छे होटल के बाहर के सभी रेस्तरां को पांच फीसदी जीएसटी दर के दायरे में रखा गया था।

और भी पढ़े-ऐतिहासिक ऊंचाई : निफ्टी ने पार किया 11000 का स्तर!

50 प्रोडक्ट 28 फीसदी के दायरे में- सबसे ऊंची जीएसटी दर, 28 फीसदी, के दायरे में सिर्फ 50 वस्तुओं को रखा गया है। इनमें विलासिता व पातक वस्तुओं यानी सिन गुड्स जैसे मादक पदार्थ आदि, सफेद बजाजी सामान यानी ह्वाइट गुड्स, सीमेंट, पेंट, ऑटोमोबाइल, वाशिंग मशीन, एयर कंडीशनर, हवाई जहाज और नौका के कल-पूर्जे आदि हैं।

रिसर्च संस्थानों के सामानों पर 5 फीसद टैक्ससार्वजनिक निधि से संचालित अनुसंधान संस्थानों को मुहैया किए जाने वाले वैज्ञानिक व तकनीकी उपकरणों पर भी जीएसटी दर में रियायत कर पांच फीसदी रखी गई है।

29 वस्तुओं पर 0% दरवस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने इसी साल 18 जनवरी को आम लोगों को राहत देते हुए 29 वस्तुओं पर जीएसटी दर घटाकर शून्य फीसदी कर दिया था। इनमें से ज्यादा हैंडीक्राफ्ट की चीजें शामिल थीं।जीएसटी की कटौती बहुत सारी उपभोक्ता वस्तुओं पर की गई थी जिनमें चॉकलेट, चुइंग गम, शैंपू, डियोडरेंट, शू पॉलिश, डिटरजेंट, पोषक पेय पदार्थ, पत्थर व सौंदर्य प्रसाधन के सामान शामिल थे। गौरतलब है कि जीएसटी परिषद ने 10 नवंबर की बैठक में 178 वस्तुओं पर जीएसटी की दरों में कटौती करते हुए उन्हें 28 फीसदी के दायरे से निकाल बाहर किया था।

-For all types of News, Latest News and Breaking News from the world of Politics, Sports and Entertainment, of our Nation and Worldwide, stay tuned to Netaaji.news and bookmark this page for instant News.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here